राजधानी, दुरंतो की यात्रा हुई मंहगी, सीट बुक करने पर लगेगा सरचार्ज

08 September 2016, 09:33 AM
राजधानी, शताब्दी जैसी व्यस्त ट्रेनों पर 9 सितंबर से फ्लेक्सी फेयर (Source- Getty Images)
राजधानी, शताब्दी जैसी व्यस्त ट्रेनों पर 9 सितंबर से फ्लेक्सी फेयर (Source- Getty Images)

रेलवे शताब्दी, राजधानी और दूसरी हाई स्पीड ट्रेनों में सीटों की बुकिंग के साथ टिकट की कीमत बढ़ाने जा रहा है। यानी सीटों की बुकिंग के साथ-साथ ही टिकटों के बेस फ़ेयर में भी इज़ाफ़ा होता जाएगा। वैसे रेलवे इसके लिए एक नियत अधिकतम मूल्य लागू करेगा। जिसके बाद टिकट की कीमत नहीं बढ़ेगी। ये कीमतें सर्ज प्राइसिंग के अन्तर्गत बढाई जा रही हैं।

क्या है सर्ज प्राइसिंग प्रक्रिया- 
सर्ज प्राइसिंग के मुताबिक जब मांग ज़्यादा होती है तो कीमतों में मांग के अनुसार ही बढ़ोतरी की जाती है। उत्पाद जितना कम होगा जाएगा, उस उत्पाद की कीमतें उतनी ही हिसाब से बढ़ती जाएगी।

फिलहाल भारतीय रेलवे ने शुरुआती 10 प्रतिशत सीटें बुक होने के बाद बची सीटों के किराए में 10 प्रतिशत की वृद्धि हो जाएगी। यानी सीटें जितनी कम होंगी, बेस फ़ेयर में 10 प्रतिशत के हिसाब से उतना ज़्यादा किराया देना होगा।

किन ट्रेनों के किराए पर पड़ेगा फ़र्क-

राजधानी, शताब्दी और वो ट्रेनें जिनके टिकटों की मांग सबसे ज़्यादा है उनके टिकटों पर इस किराए का सबसे ज़्यादा असर पड़ेगा।  

रेलवे बोर्ड के सदस्य मोहम्मद जमशेद ने कहा कि इन तीनों प्रीमियम ट्रेन में किराया लचीली किराया प्रणाली के आधार पर होगा।  देश में इस समय कुल 42 राजधानी, 46 शताब्दी और 54 दुरंतो ट्रेनें चल रही हैं।

हालांकि रेलवे ने ये साफ कर दिया है कि कि संशोधित किराया 9 सितंबर या उसके बाद की यात्रा के लिए पहले से बिक चुके टिकटों पर लागू नहीं होगा।

नीचे ट्वीट में देखें, कैसे बढ़ेगा किराया- 

First Published: Wednesday, September 07, 2016 09:03 PM
For all the latest News Download the News Nation App available on Android and iOS.