राजस्थान के जैसलमेर से आईएसआई का जासूस गिरफ्तार

New Delhi, News Nation Bureau | Updated : 19 August 2016, 07:11 PM

राजस्थान के जैसलमेर से पाकिस्तान के एक जासूस को गिरफ्तार किया गया है। इसका नाम नंदू महाराज है। पाकिस्तानी पासपोर्ट पर भारत आए नंदू महाराज को इंटेलिजेंस ब्यूरो ने गिरफ्तार किया है।

एडीजी, इंटेलीजेंस यू आर साहू ने बताया कि “आरोपी नंदू महाराज पाकिस्तानी नागरिक है और वह वीजा लेकर भारत आया है।”

साहू ने बताया कि जैसलमेर में इसे संदिग्ध अवस्था में पाया गया। पुलिस को इसकी तलाश काफी समय से थी। इससे पूछताछ की जा रही है और इसके बाद इसे जयपुर ले जाया जाएगा।

राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया कहा “नंदू महाराज वीजा लेकर कई बार भारत आ चुका है। ये आईएसआई के एजेंट के रूप में काम करता है। लोगों को प्रलोभन देकर भारत से सूचनाएं इकट्ठी कर पाकिस्तान को भेजा करता था।”  

राजस्थान के जैसलमेर की 560 किलोमीटर लंबी सीमा पाकिस्तान से लगती है। 

आइए आपको बताते हैं कि सुरक्षा एजेंसियों ने कब और कहां पाक जासूसों को पकड़ा है..... 

19 अगस्त 2016-- राजस्थान के जैसलमेर में एक पाकिस्तानी जासूस को 35 किलो आरडीएक्स के साथ गिरफ्तार किया गया।

4 अगस्त 2016 -- दुर्ग-जम्मूतवी ट्रेन में सफर कर रहे एक पाकिस्तानी जासूस को सागर रेलवे स्टेशन पर दबोचा गया। वो छत्तीसगढ़ से कश्मीर भाग रहा था।

25 अप्रैल 2016— पंजाब के तरनतारन में भारत-पाक सीमा स्थित सेक्टर खालड़ा में तैनात बीएसएफ की 87 बटालियन को बेहोशी की हालत में एक पाकिस्तानी जासूस मिला।

2 फरवरी 2016--  सुरक्षा एजेंसियों ने पठानकोट की मामून सैन्य छावनी के पास आई.एस.आई. के कथित एजेंट इरशाद अहमद और उसके बेटे मोहम्मद असलम को गिरफ्तार किया।

29 दिसंबर 2015 -- दिल्ली क्राइम ब्रांच ने बठिंडा में जासूसी के आरोप में एयरफोर्स के एक पूर्व कर्मचारी रणजीत सिंह को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किया।

28 दिसंबर 2015-- उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वाड (एटीएस) ने जोधपुर से एक आईएसआई एजेंट को गिरफ्तार किया। यह पाकिस्तानी जासूस, भारतीय सेना की गुप्त सूचनाएं आईएसआई को भेजा करता था।

27 दिसंबर 2015 -- भारतीय सेना के एक रिटायर्ड सैन्यकर्मी और राजस्व विभाग के एक इंसपेक्टर को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ संबंध के आरोप में जैसलमेर के पोखरण से गिरफ्तार किया गया।

6 दिसंबर 2015-- पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में दिल्ली पुलिस ने आईएसआई के एजेंट को गिरफ्तार किया। आरोप है कि फरीद खान नाम का यह एजेंट भारतीय सेना में कार्यरत था और सेना की सारी खबरें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को देता था

2 दिसंबर 2015-- 2 दिसंबर को कोलकाता के क्षेत्रीय पासपोर्ट ऑफिस के पास से आईएसआई का एक और एजेंट गिरफ्तार किया गया। उसका नाम शेख बादल बताया गया था।

29 नवंबर 2015 -- स्‍पेशल टास्‍क फोर्स ने कोलकाता से तीन संदिग्‍ध आईएसआई एजेंट्स को गिरफ्तार किया है। इनके नाम अशफाक अंसारी, जहांगीर और इरशाद अंसारी बताया गया था।

29 नवंबर 2015 -- दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दिल्ली से दो आईएसआई एजेंट्स को गिरफ्तार किया। इनमें से एक बीएसएफ जवान था, जिसका नाम अब्दुल रशीद है। इनके पास से बेहद संवेदनशील दस्तावेज भी बरामद किए गए। दूसरे आईएसआई एजेंट का नाम कैफियतुल्ला था।  

27 नवंबर 2015 -- यूपी पुलिस एसटीएफ ने मेरठ रेलवे स्टेशन से मोहम्मद एजाज़ नाम के शख्स को पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया। वह यूपी और उत्तराखंड के सैन्य ठिकानों की जासूसी कर रहा था।   

14 नवंबर 2015 -- कोलकाता एसटीएफ ने दो संदिग्ध आईएसआई एजेंट्स अख्तर खान और उसके भाई जफर खान को गिरफ्तार किया। अख्तर के पास से मिले कागजातों की जांच में इस तरह के संकेत मिले हैं कि वह देश की सुरक्षा से संबंधित सूचनाएं आईएसआई को देता था।

23 अक्टूबर 2015 -- भारत-नेपाल के सोनौली सीमा पर डॉ. जावेद कमाल नाम के शख्स को गिरफ्तार किया गया। मिली जानकारी के अनुसार वह आईएसआई का एजेंट है। वह कई बार नाम बदल कर नेपाल की यात्रा भी कर चुका है। 

First Published: Friday, August 19, 2016 04:41 PM

Related Tags:

Post Comment (+)